Thursday, 17 May 2018

भारत में कृषि और कृषक बेबस क्यों ?

डॉ. नीरज मील
    
;g ns’k dk thou lR; gS fd d`f"k vkSj d`"kd ns’k dh lEiw.kZ O;oLFkk dk rfU=dk ra= ,oa jDr gSaA detksj gksrh Hkkjrh; vFkZO;oLFkk] ns’k esa O;kid Lrj ij iuirs Hkz"Vkpkj] detksj gksrs lkekftd <+kps vkSj ns’k dh cngkyh ds fy, ftEesnkj dkj.k ge u rks vkfFkZd mnkjhdj.k dks eku ldrs gS vkSj u gh vk;krkssa ij c<+rh fuHkZjrk dksA bldk ,dek= dkj.k gS Hkkjr esa d`f"k vkSj d`"kd ds izfr c<+rh mnklhurk ,oa vkfFkZd mnkjhdj.k ,oa vkfFkZd lq/kkjksa ds uke ij m|ksxksa feyrh izkFkfedrk o d`f"k dh mis{kk gSA fxjrk :i;k] ?kVrh thMhih] c<+rk vk;kr vkSj fons’kh dtZ dk ncko------ bu lcds chp ns’k dh mEehn gS rks og d`f"kA eSa dguk pkgw¡xk fd vkfFkZd lq/kkjksa ds fy, Hkkjr ljdkj vkSj uhfr fu/kkZjdksa ns’k dh d`f"k vkSj d`"kd nksuksa ds fy, u lkspus dk le; gS vkSj u gh lkspus dh tqjZr dj jgs gSA ns’k dh d`f"k vkSj fdlku brus gkf’k;s ij gksus ds ckotwn brus l{ke gSa fd os ns’k ds vkfFkZd <+kaps dks u dsoy izHkkfor djrs gS cfYd mls Q’kZ ls v’kZ rd ys tkus dh rkdr Hkh j[krs gSaA fdlkuksa dh vkotsa fdlh dks Hkh lqukbZ ugha ns jgh gS u Vhoh pSuyksa dks vkSj u gh v[kckj okyksa dksA vkt dk ifjn`’; cny pqdk gSA tc rd fdlh rM+ds&HkM+ds ds lkFk dksbZ ckr u gks rks ml Vhoh pSuy dks dksbZ ugha ns[kuk pkgrk vkSj u dksbZ ,slh cdokl ys[k i<+uk pkgrk gSA fdlku iz/kkuea=h dks =kfgeke lUns’k fy[k jgs gS ysfdu i<+us ds fy, fdlh ds ikl oDr gh ugha gSA

      deh'ku QkWj ,xzhdYpj dkWLV ,aM izkblsl¼lh,lhih½ vkSj dsUnzh; lkaf[;dh; dk;kZy;¼lh,lvks½ us o"kZ 2013&14 ds fy, d`f"k fodkl nj 2-1 dh o`f) ds lkFk 7 Qhlnh gksus dk vuqeku yxk;k gS tcfd o"kZ 2013&14 ds fy, d`f"k fodkl dh ;g nj 5 Qhlnh FkhA lkFk gh 2013&14 esa d`f"k ls tqM+s yksxksa dh vk; esa Hkh 20 Qhlnh rd c<+r dh mEehn dh Fkh mls 2022 rd nqxuk djus dk y{; gSA ;g vkadyu Hkkjr dh Mwcrh vkfFkZd O;OkLFkk dh fLFkfr esa ns’kokfl;ksa esa mEehn vkSj mRlkg dh ygj iSnk djus ds fy, dkQh gSA Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd bruk l{ke gksus ds ckotwn vktknh ds ckn ls u dsoy misf{kr gaS cfYd bl mis{kk dh ot+g ls fiNM+s gq, Hkh gSa rHkh rks ns’k esa [ksrh ds yk;d dqy Hkwfe dk dsoy 40 Qhlnh gh flafpr gSA d`"kdksa ds ikl vR;k/kqfud rduhdksa dk vHkko gS] fdlkuksa dk ns’k esa mit iSnk djuk drZO; rks gS ysfdu viuh mit dh dher fu/kkZj.k dk vf/kdkj ugha gSA ns’k ds d`"kd brus detksj gS fd os dHkh mUu+r cht ds uke ij] rks dHkh mUu+r dhVuk’kd ds uke ijA dHkh ljdkjh _.k ds uke ij rks dHkh _.k olwyh ds uke ijA dHkh vf/kxzg.k ds uke ij rks dHkh jksdM+ [ksrh¼dS’k ØkWi½ ds uke ij gj ckj Bxs tk jgs gSA
      orZeku esa tgka ns’k vkfFkZd vfLFkjrk ds nkSj ls xqt+j jgk gS ogka misf{kr Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd viuh rkdr fn[kkrs gq, ladVekspd dk dke dj jgs gSa D;ksafd o"kZ 2002&07 ds eqdkcys 2007&12 esa d`f"k us fodkl esa viuk ;ksxnku yxHkx 46-75 Qhlnh c<+krs gq, viuh fodkl esa vius ;ksxnku misf{kr j[kus ds ckotwn mPPk j[kk vkSj d`f"k nj 4 Qhlnh jghA lkFk o"kZ 2012&17 esa ;g nj 5Qhlnh vuqekfur gSA ysfdu vc iz’u ;s gS fd d`f"k vkSj fdlku n~okjk Hkkjr ds fodkl esa brus vf}rh; ;ksxnku ds ckotwn vktknh ds ckn ls gh ns’k esa Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd dks vk/kkj ekudj fodkl iFk ij vxzlj gksus ds ctk; misf{kr D;ksa j[kk\ D;ksa l’kDr d`f"k ds lkeus vkS|ksfxd {ks= dks rjthg nh x;h\ uhfr fu/kkZjdksa us] D;ksa Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd dks misf{kr dj j[kk gS\
      ;s rks Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd dh egkurk gS fd oks Hkkjrh; laLd`fr ds  ^rsu R;Drsu Hkqf¥~tFkk* dh vo/kkj.kk vFkkZr~ R;kxiwoZd miHkksx ds lkFk deZ ijkdk"Bk dh vo/kkj.kk ds lkFk ns’k dh turk dks [kk|kUu dh iwfrZ djrs jgsa gSa vU;Fkk Hkkjr dk vfLrRo [krjsa esa gh FkkA [kSj] fLFkfr fpUrktud rks vc gqbZ tc Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd ?kksj mis{kk ls vkgr gks x;s gSA ,d vksj tgka Hkkjr esa ljdkjsa d`f"k ds fodkl dh u lkspdj fons’kh 'kfDr;ksa ds gkFkksa vkS|ksfxd fodkl ds uke ij vf/kxzg.k tSls ?kkrd gfFk;kj ls Hkkjrh; d`f"k dh gR;k dj jgha gS rks nwljh vksj Hkkjrh; d`"kd vUksd dkj.kksa ;Fkk& _.kHkkj] dhVuk’kdksa ds nq"izHkko] jksdM+ [ksrh¼dS’k ØkWi½ esa Bxh ds f’kdkj gksus dkj.k ls lkewfgd vkRegR;k djus dks etcwj gSA fLFkfr fugk;r gh vfrxEHkhj gS ysfdu ljdkj vius drZO; ls foeq[k gSA vkt+kn Hkkjr dh ljdkj ,oa uhfr fu/kkZjdksa us Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kd dks mis{kk ds vykok dqN Hkh ugha ns ik;sa gSaA
            lq>ko ds rkSj ij eSa ikBdksa ds lkeus viuk i{k j[kwaxk fd D;ksa uk Hkkjr ljdkj dks l’kDr ,oa iw.kZr% fØ;kfUor gksus okyh izR;{k d`f"k ,oa d`"kd fgr uhfr dk fuekZ.k dj ykxw fd;k tkos rkfd ns’k ds vfLrRo dks cpk;k tk ldsA ljdkj dks Hkkjrh; d`f"k vkSj d`"kdksa dh gR;k esa Hkkxhnkj u curs gq, mUkds ns’k ij lfn;ksa ls fd;s tkrs jgs ,glkuksa dk dt+Z vnk djus dk Qt+Z vnk djuk pkfg,A fdlkuksa dks viuh mit ds dher dk fu/kkZj.k dk vf/kdkj feyuk gh pkfg,A ns’k ds yksxksa dks vkSj ns’k dh ljdkj dks fdlkuksa dks etcwj djus dh ctk; etcwr djuk pkfg,A हमें सोचना होगा कि 1968 में 1 किलो सोना औसतन सौलह हज़ार दो सौ में आ जाता था और गेहू के भाव 70 रूपये प्रति 100 किलो थे अर्थात आज 50 साल बाद ऐसा क्या घटित हुआ कि सोने ने अप्रत्याशित वृद्धि करते हुए 30 लाख हो गयी और सबसे ज्यादा आवश्यकता वाला गेहूँ केवल 18 सौ रूपये में ही शांत है? क्या ये सरकार की उदासीनता नहीं है? कम कीमत पर अपनी मेहनत से उपजी कृषि उपज को क्यों लुटाएं? क्यों बेवजह इंसानियत का सारा ठेका किसान पर ही लादा गया? क्या किसान इंसान नहीं है? क्या किसान को कोई तकलीफ नहीं होती? भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ है कृषि और इस अर्थव्यवस्था का दिल है किसान

कोसने के बजाय सुझाव देना बेहतर होता है सबसे पहले देश में किसानों को सिंचाई के लिए नदियों से निकालकर पानी की आपूर्ति करनी होगी वो भी मुफ्त प्रत्येक किसान का जीवन बीमा होना चाहिए और इसका प्रीमियम सरकार को अदा करना चाहिए क्योंकि जब सरकार के कार्मिकों बीमा सरकार करा सकती है तो किसानों में क्या हर्ज़ है? सरकार को चाहिए कि अनाज के लिए बीज बनाने वाली और खाद बनाने वाली सभी फैक्ट्रियों को बंद कर दे ताकि किसानों को किसानी के लिए कम धन की आवश्यकता हो और जैविक खेती भी हो कम कीमत पर 24 घंटे थ्री फेस बिजली मिलनी चाहिए आज सबसे बड़ी समस्या है किसान को कृषि उपज का लाभकारी मूल्य न मिल पाना ऐसे में सरकार को एक इस तरह की व्यवस्था स्थापित करनी चाहिए जिसमे देश की मांग के अनुरूप उपज की बुआई करवाई जाएं ऐसा करने से न केवल उत्पादन में संतुलन होगा बल्कि कीमत का उचित निर्धारण भी होगा अब सरकार को कृषि को उद्योग का दर्जा दे देना चाहिए ताकि सब समस्या ही खत्म हो जाएं अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो फिर सरकार को चाहिए कि प्रत्येक उपखंड स्तर पर कृषि जिंसों के क्रय-विक्रय हेतु स्थायी केंद्र स्थापित करे और उपज की लागत (जो किसान द्वारा तय हो) वो उन्हें सरकारी स्तर पर बिना किसी शर्त के खरीदने का तंत्र बने और उसी तन्त्र से वापस जनता में कम कीमत पर पुन: विक्रय कर दे इससे किसानों को उनकी उपज का मूल्य भी मिल जाएगा और अनाज की कीमतों में इजाफा भी नहीं होगा और किसानों को अनुदान भी नहीं देना होगा vUr esa eSa rks bruk dgrs gq, viuh dYke dks vHkh ds fy, fojke nw¡xk fd&
d`f"k vkSj fdlku dks etcwj er djks ojuk jks nsxk ;s lalkjA
vc Hkh oDr gS fd ge yM+s muds vf/kdkjksa ds fy, tks gS gekjs ikyugkjAA
*Image Source: Google search No Copyrights
                                                                                                                               Any Error? Report Us


                                                               *Contents are Copyright.

No comments:

Post a comment